Uncategorized

Yayavar -2- ।।मेेरे मन अौर मत उड़।।

Hello everyone! Here I’m with my second poem from my a yr old, poem collection Yayavar.. I had wrote this poem on 1 Nov. 2016. Hope you all enjoy it.. Let’s begin..

।।मेरे मन अौर मत उड़।।

मेरे मन अौर मत उड़,

पहाड़ों से टकरा जाएगा।

ऊँची ऊँची उड़ानों के सपने

झट छोड़, गिर जाएगा।

कड़वीं सच्चाईयों की दुनिया में,

मीठे झठ मत दिखा, भटक जाएगा।

इस तुफानी सागर में गोते मत खा,

डूब जाएगा।

मेरे मन अौर मत उड़।

उड़ने से पहले चलना सीख,

संभल जाएगा।

इन कड़वीं सच्चाईयों को समझ,

राह में खुद आ जाएगा।

ये तूफान पल-पल के हैं,

हर पल के नहीं, समझ ले,

जीना सीख जाएगा।

मेरे मन अौर मत उड़।।

-अवनी

P.s. Yayy.. It’s my 5th post and now I’ve got 100 likes on my posts.. Thank you everyone for such great support… 🙏😇

Hope you all like it.

Like.Comment.Follow

*Photo credit: Google*

12 thoughts on “Yayavar -2- ।।मेेरे मन अौर मत उड़।।”

  1. आज के परिवेश में हताश मन को
    आपकी कविता के रूप में बेहतरीन सन्देश।
    आपको शत शत नमन बहन जी

    Liked by 1 person

    1. धन्यवाद🙏🙏
      हमें बहुत खुशी हुई की आपको हमारी कविता पसंद आई। 🙏🙏

      Like

      1. बहन जी ,शब्दों में कुछ असुद्धिया हैं जिनको सुधार कीजिए
        जैसे -तफन,झठ ,उड़न को उचित मात्रा दीजिए।

        Liked by 1 person

    1. Thanks😇.. I’m glad you liked it😊.. Yeah, if we control our thoughts, we can surely make our lifes better and will always improve..😄

      Like

      1. You’re right😄.. But, where there’s a will there’s a way.. I think if we want to change, first of all we should have a will, but if not that, then no technique can work on us😄😇..

        Like

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s